रिपोर्ट/रूपेश कुमार

मुज़फ़्फ़रपुर : पिछले दिनों बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पाला बदलने एनडीए से नाता तोड़कर आरजेडी, कांग्रेस के महागठबंधन में शामिल होने पर  बिहार भाजपा के धरने के बाद  जिला भाजपा के नेता कार्यकर्ता समाहरणालय के सामने धरने पर बैठ नीतीश कुमार के प्रति अपना विरोध जताया।  राजग गठबंधन से नाता तोड़कर महागठबंधन के साथ जाने को जनादेश का अपमान बताते हुए शुक्रवार को भाजपा जिलाध्यक्ष रंजन कुमार के नेतृत्व में जिला भाजपा ने एक दिवसीय महाधरना का आयोजन किया है। इस महाधरना में पार्टी के सभी वरिष्ठ नेता एवं कार्यकर्ता शामिल हुए।

धरना का नेतृत्व कर रहे भाजपा जिलाध्यक्ष रंजन कुमार ने कहा कि विधानसभा चुनाव में बिहार की जनता ने एनडीए को जनादेश दिया था, लेकिन जनादेश का अपमान कर नीतीश कुमार अब उन्हीं के साथ हो लिए जिनके खिलाफ वे हमेशा लड़ते हुए राजनीति में अपनी पहचान बनाए.

उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की बात करने वाले नीतीश कुमार ने भ्रष्टाचार की पहचान बन चुके कांग्रेस और आरजेडी के साथ सरकार बना कर जनादेश का अपमान किया है.

भाजपा जिलाध्यक्ष ने कहा कि अपनी अतिमहत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए नीतीश कुमार लगातार बिहार को ‘‘धोखा’’ दे रहे हैं और जनता के विश्वास पर घात कर रहे हैं। इस विश्वासघात के खिलाफ आज जिला मुख्यालय पर धरना दिया गया है  आगे प्रखंड मुख्यालयों पर भी महाधरना का आयोजन किया जाएगा।

भाजपा जिलाध्यक्ष ने कहा कि हम सत्ता में रहें या ना रहें फर्क नही पड़ता भाजपा कार्यकर्ता सप्ताह के सातो दिन काम करने वाले है आगे भी हम जनता के मुद्दों को लेकर सड़क से लेकर सदन तक संघर्ष करने को तैयार हैं ।


वहीं धरना को संबोधित करते हुए प्रदेश भाजपा के महामंत्री विधानपार्षद देवेश कुमार ने कहा कि जगजाहिर है कि भाजपा ने ही नीतीश कुमार को आगे बढ़ाया और अब वे हम पर ही पार्टी तोड़ने का आरोप लगाते हैं। 2020 के विधानसभा चुनाव में मिला जनादेश बिहार के विकास के लिए था ना कि ‘‘सीएम की कुर्सी’’ से चिपके रहने और प्रधानमंत्री बनने का सपना देखने के लिए था। नीतीश कुमार विचारधारा और नैतिकता विहीन व्यक्ति है जो खुद ही अपनी सरकार गिराकर खुद ही अपनी सरकार बनाने का रिकार्ड 17 सालों में 8 बार बना चुके है.


उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री बनने की नीतीश की महत्वाकांक्षा के अलावा राजग से अलग होने का अन्य कोई कारण नहीं था. उन्होंने कहा कि इस विश्वासघात को लेकर भाजपा कार्यकर्ता पूरे राज्यभर में प्रखंड स्तर पर जाएंगे। उन्होंने कहा नीतीश कुमार के इस कदम से राज्य की जनता आक्रोशित है और इसका जवाब देगी.


पूर्व मंत्री सुरेश शर्मा ने कहा कि नीतीश कुमार को आज जो मुकाम मिला है वह भाजपा के निस्वार्थ प्रेम का परिणाम है। अन्यथा समता पार्टी की स्थापना के समय उनकी हैसियत क्या थी यह किसी से छुपा नहीं है। 


पारू विधायक अशोक सिंह ने कहा कि नीतीश कुमार का अपना जनाधार नही है। हमेशा वे दूसरों की लोकप्रियता को अपनी कुर्सी लोलुपता का आधार बनाया है।जदयू कोई पार्टी नहीं लोगो को ठगने वाले लोगों की जमात है।


बरूराज विधायक अरुण कुमार सिंह ने धरने को संबोधित करते हुए कहा की नीतीश कुमार की नैतिकता केवल सत्ता और कुर्सी के हिसाब से बदलती रहती है। अगर ऐसा नहीं होता तो तेजस्वी पर जिस आरोप से वे अलग हुए थे उसके बरकरार रहते फिर कैसे शामिल हो गए।


इनके अलावा प्रदेश महामंत्री बेबी कुमारी,प्रदेश प्रवक्ता मनीष पांडे, पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष रविंद्र सिंह, पूर्व विधायक केदार गुप्ता, जिला उपाध्यक्ष मनीष कुमार, हरिमोहन चौधरी, अर्जुन राम, नरेंद्र सिंह, विष्णु कांत झा, शंभू सिंह इत्यादि ने भी धरने को संबोधित किया।


धरना का संचालन जिला महामंत्री धर्मेंद्र साहू एवम धन्यवाद ज्ञापन जिला मनोज कुमार सिंह ने किया। इस अवसर पर जिला प्रभारी रमेश श्रीवास्तव, जिला महामंत्री सचिन कुमार, उपाध्यक्ष निर्मला साहू, अंजना कुशवाहा, मंत्री संजीव झा, कृष्ण वल्लभ यादव, भोला चौधरी, जिला प्रवक्ता आलोक राजा, जिला मिडिया प्रभारी सम्राट कुमार, प्रद्युमन राणा, धनंजय झा, सुजीत कुमार, नचिकेता पांडे, उमेश पांडे, फेकू राम, अनिल कुमार सिंह, नंद किशोर पासवान, आशीष अग्रवाल, ओम प्रकाश कुमार, रामनाथ गुप्ता, रामबालक शर्मा, मंडल अध्यक्ष प्रणव भूषण, भारत भूषण,     संजीत पासवान,नंद किशोर मंडल, अभिषेक कुमार, विपिन कुमार सिंह, कृष्ण कुमार सिंह, इत्यादि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।।


 


Advertisements

Posted by : Raushan Pratyek Media

Follow On :


जरूर पढ़ें

Grievance Redressal Officer (Any Complain Solution) Name: Raushan Kumar   Mobile : 8092803230   7488695961   Email : [email protected]