Live

विवादित जमीन रामलला को   सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सुन्नी वक्फ बोर्ड को अलग दी जाए पांच एकड़ जमीन

नई दिल्ली : देश के सबसे लंबे चले मुकदमे यानी अयोध्या विवाद पर देश की सबसे बड़ी अदालत का फैसला आ गया है. सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि विवादित जमीन रामलला की है. कोर्ट ने इस मामले में निर्मोही अखाड़े का दावा खारिज कर दिया. कोर्ट ने कहा कि तीन पक्ष में जमीन बांटने का हाई कोर्ट फैसला तार्किक नहीं था. कोर्ट ने कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ की वैकल्पिक जमीन दी जाए. इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को भी वैकल्पिक ज़मीन देना ज़रूरी है.

राम मंदिर पर SC का जानिए खास जजमेंट, विवादित जमीन को माना रामलला की, मुस्लिम पक्ष को 5 एकड़ जमीन देने का आदेश

अयोध्या फैसले की खास बातें

- विवादित जमीन रामलला विराजमान को दी जाए.

- सरकार एक ट्रस्ट बनाए, 3 महीने के अंदर ट्रस्ट बनाकर मंदिर निर्माण की योजना बनाए.

- मुस्लिम पक्ष को अलग से अयोध्या में ही 5 एकड़ जमीन देने का आदेश

- जमीन पर दावा साबित करने में मुस्लिम पक्ष नाकाम

- आस्था के आधार पर मालिकाना नहीं

- मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाने की पुख्ता जानकारी नहीं

- केंद्र सरकार तीन माह में स्कीम बनाने का आदेश

- सुप्रीम कोर्ट में शिया वक्फ बोर्ड की याचिका खारिज

- हिन्दू पक्षकार निर्मोही अखाड़े का दावा सुप्रीम कोर्ट में खारिज 

- खाली जमीन पर नहीं बनाई गई थी बाबरी मस्जिद

- खुदाई में जो मिला वो इस्लामिक ढांचा नहीं है

- जमीन पर मालिकाना हक कानूनी नजरिये से तय होगा: CJI

- हिन्दुओं की आस्था पर कोई विवाद नहीं: CJI 

-आस्था और विश्वास के आधार पर मालिकाना हक का फैसला नहीं: CJI


Posted by

Pawan Kumar


जरूर पढ़ें